ट्विटर

प्रभुनाथ शुक्ला

भदोही, 07 अक्तूबर। पूर्वांचल की सियासत में अपना अलग रसूख रखने वाले चर्चित विधायक विजय मिश्र की एमएलसी पत्नी रामलली मिश्रा को मंगलवार को हाईकोर्ट से सशर्त जमानत मिल गईं। बुधवार को वह विवेचना अधिकारी के समक्ष उपस्थित हुई। सम्पत्ति विवाद के एक मामले में विधायक के करीबी रिश्तेदार ने विधायक समेत पत्नी और बेटे के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। गिरफ्तारी से बचने के लिए एमएलसी रामलली मिश्रा फरार चल रहीं थीं। जबकि विजय मिश्र की मध्यप्रदेश से पहले ही गिरफ्तारी हो चुकी है।

इलाहबाद हाईकोर्ट से मिर्जापुर एमएलसी रामलली मिश्रा को सशर्त जमानत मिली है। बुधवार को वह विवेचना अधिकारी के सामने अपने अधिवक्ता के साथ उपस्थित हुई। विधायक विजय मिश्र की गिरफ्तारी के बाद वह
फरार थीं। हाईकोर्ट ने सशर्त जमानत देने के बाद एक सप्ताह तक पूछताछ में सहयोग के लिए विवेचनाधिकारी के समक्ष प्रस्तुत होने का अदालत ने आदेश दिया है।

बुधवार को एमएलसी रामलली मिश्रा गोपीगंज थाने में विवेचनाधिकारी के समक्ष होकर अपने ऊपर लगे आरोपों के सम्बन्ध सफाई दिया। सम्पत्ति विवाद के इसी मुक़दमें की वजह बाहुबली विधायक विजय मिश्र और उनके परिवार की मुश्किलें बढ़ गईं। पत्नी और बेटे विष्णु मिश्र के साथ बेटी सीमा मिश्र पर भी रिश्तेदारों को धमकाने के आरोप में मुकदमा दर्ज हुआ। पत्नी रामलली की रिहाई के बाद विधायक को थोड़ी राहत कि सांस मिल सकती है। उधर विधायक को चित्रकूट के बाद फ़िर दूसरी आगरा लाया गया है।

Leave a Reply