स्रोत: गूगल

चुनाव आयोग द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहीं गई महत्वपूर्ण बातें:

10 नवंबर को मतगणना होगी।
– पहले चरण का चुनाव- 28 अक्तूबर को, दूसरे चरण का तीन नंवबर और तीसरा चरण का चुनाव सात नवंबर को होगा।
– तीसरे चरण में 15 जिलों में मतदान होंगे। इसमें 78 सीटों पर मतदान होंगे।
– दूसरे चरण में 17 जिलों में मतदान होंगे। इसमें 94 सीटों पर मतदान होंगे।
– पहले चरण में 16 जिलों में मतदान होंगे। 31, 000 मतदान केंद्रों पर मतदान डाले जाएंगे। इसमें 71 सीटों पर मतदान होंगे।
– तीन चरणों में होंगे चुनाव।
– सोशल मीडिया का दुरुपयोग करने पर कार्रवाई की जाएगी।
– उम्मीदवारों पर चल रहे मुकदमों की जानकारी सार्वजनिक करनी होगी।
– उम्मीदवारों के बारे में वेबसाइट पर जानकारी देनी होगी।
– नामांकन के लिए केवल दो लोग जा सकेंगे।
– सभी मतदान केंद्र ग्राउंड फ्लोर पर रहेंगे।
– चुनाव प्रचार वर्चुअल होगा।
– आपराधिक प्रकरणों के बारे में अखबार में विज्ञापन देना होगा।
– नामांकन ऑनलाइन भी किया जाएगा।
– पांच से ज्यादा लोग घर जाकर प्रचार नहीं कर सकते।
– राज्य में आदर्श आचार संहिता (एमसीसी) इस घोषणा के साथ लागू हो गई है। एमसीसी दिशानिर्देशों के प्रभावी कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए आयोग पहले ही विस्तृत व्यवस्था कर चुका है।
– कोरोना संक्रमित मरीज मतदान के अंतिम घंटों में ही अपना वोट डाल सकेंगे। वे ऐसा स्वास्थ्य अधिकारियों की देखरेख में करेंगे।
– नामांकन में दो से ज्यादा वाहनों का उपयोग नहीं किया जा सकेगा।
– चुनाव प्रचार में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन आवश्यक होगा।
– मतदान के समय को एक घंटे के लिए बढ़ाया गया है। सुबह सात बजे से शाम के छह बजे तक मतदान होंगे। हालांकि, यह वामपंथी-प्रभावित क्षेत्रों पर लागू नहीं होगा।
– सात लाख सेनिटाइजर, छह लाख पीपीई किट और 46 लाख मास्क का इंतजाम किया गया है। छह लाख फेस शील्ड का इंतजाम किया गया है।
– 29 नवंबर को बिहार विधानसभा का कार्यकाल समाप्त हो रहा है ।
– राज्य में कुल वोटर सात करोड़ 18 लाख हैं जिसमें महिला वोटर तीन करोड़ 39 लाख हैं।
– एक बूथ पर एक हजार मतदाता ही वोट डाल सकेंगे।
– मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि कोरोना संकट की वजह से दुनिया के 70 देशों में चुनावों को टाल दिया गया।
– बिहार में कोरोना काल में सबसे बड़ा चुनाव।

29 नवंबर को खत्म हो रहा विधानसभा का कार्यकाल
बिहार में विपक्षी पार्टियां कोरोना के चलते चुनाव टालने की मांग कर रही थी, लेकिन आयोग ने इस मांग को खारिज कर दिया। वर्तमान विधानसभा का कार्यकाल 29 नवंबर को खत्म हो रहा है।

चुनाव के दौरान कोरोना से बचाव के लिए गाइडलाइन
कोरोना काल में विधानसभा चुनाव कराने को लेकर आयोग पहले ही गाइडलाइंस जारी कर चुका है। हर मतदान केंद्र पर सिर्फ एक हजार मतदाता ही वोट देंगे। मतदान केंद्रों पर सैनिटाइजर से लेकर सभी तरह की व्यवस्थाएं रहेंगी। EC ने अगस्त में जारी गाइडलाइंस में बताया था कि, चुनाव के लिए नामांकन ऑनलाइन दाखिल किए जाएंगे। इसके साथ ही कोरोना से बचाव के लिए चुनाव संबंधी तमाम गतिविधियों के दौरान मास्क पहनने से लेकर कई जरूरी सावधानियां बरतने और स्वास्थ्य मंत्रालय के नियमों का पालन करने को कहा गया था।

Leave a Reply