स्रोत: ANI

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (FICCI) की 93वीं वार्षिक आम बैठक और एनुअल मीटिंग के उद्घाटन सत्र को डिजिटल माध्यम से संबोधित किया। इस अवसर पर पीएम मोदी ने कहा कि कृषि क्षेत्र और उससे जुड़े अन्य सेक्टर जैसे एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर हो, फ़ूड प्रोसेसिंग हो, स्टोरेज हो, कोल्ड चैन हो इनके बीच हमने दीवारें देखी है अब सभी दीवारें हटाई जा रही हैं, सभी अड़चनें हटाई जा रही हैं। इन सुधारों के बाद किसानों को नए बाजार,नए विकल्प और टेक्नोलॉजी का लाभ मिलेगा। देश का कोल्ड स्टोरेज इंफ्रास्ट्रक्चर आधुनिक होगा। इन सबसे कृषि क्षेत्र में ज्यादा निवेश होगा। इन सबका सबसे ज्यादा फायदा मेरे देश के किसान को होने वाला है।
पीएम नरेंद्र मोदी ने कोरोना काल में अपनी उपलब्धि बताते हुए कहां की हम लोगों ने 2020 के मैच में तेजी के साथ बहुत कुछ बदलते देखा है। देश, दुनिया इतने उतार-चढ़ाव से गुजरी है कि कुछ बरसों बाद हम करोना काल को याद करेंगे तो शायद यकीन ही नहीं आएगा।जितनी तेजी से हालात बिगड़े उतनी ही तेजी के साथ सुधर भी रहे हैं।
इस महामारी के समय भारत ने अपने नागरिकों के जीवन को सर्वोच्च प्राथमिकता दी और ज्यादा से ज्यादा लोगों का जीवन बचाया। आज इसका नतीजा देश और दुनिया देख रही।भारत ने जिस तरह बीते कुछ महीनों में एकजुट होकर काम किया, स्थितियों को संभाला है उसने पूरी दुनिया को चकित कर दिया।

पीएम नरेंद्र मोदी ने विदेश निवेशकों की बात करते हुए कहा कि दुनिया का जो विश्वास बीते 6 वर्षों में भारत पर बना था, वह बीते महीनों में और मजबूत हुआ है। FDI हो या FPI, विदेशी निवेशकों ने भारत में रिकॉर्ड निवेश किया है और निरंतर कर रहे हैं। अनुभव रहा है कि पहले के समय की नीतियों ने कई क्षेत्रों में आदक्षता को संरक्षण दिया, नए प्रयोग करने से रोका।जबकि आत्मनिर्भर भारत अभियान हर क्षेत्र में दक्षता को बढ़ावा देता है। पहले की नीतियां जो भी रही हूं लेकिन आज की नीतियां, ग्रामीण कृषि आधारित व्यवस्था विकसित करने के लिए बहुत अनुकूल हैं। नीति और नियत से सरकार किसानों का हित करने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है।

Leave a Reply