लेह में चीन के साथ 15 और 16 जून की रात हिंसक झड़प में घायल सैनिकों से बातचीत करते प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी । तस्वीर: BJP

प्रधानमंत्री वृहस्पतिवार की सुबह CDS बिपिन रावत और अंध सेना प्रमुख नरवणे के साथ लद्दाख पहुंचे। प्रधानमंत्री ने वहां चीन के साथ जारी तनाव को मानचित्र के माध्यम से समझा। इसके अलावा बाद प्रधानमंत्री ने जवानों को सम्बोधित किया। जिसके बाद प्रधानमंत्री मोदी घायलों सैनिकों ने मिलने अस्पताल पहुंचे।
बातचीत में क्या कुछ बोले प्रधानमंत्री –

• मेरे जैसे 130 करोड़ देशवासी आपके प्रति बहुत गर्व महसूस करते हैं। आपका साहस, शौर्य हमारी नई पीढ़ी को प्रेरणा दे रहा है। आपका ये पराक्रम, ये शौर्य, हमारे देशवासियों को आने वाले कई वर्षों तक प्रेरणा देता रहेगा।

• आज जो विश्व की स्थिति है, तब ये मैसेज जाता है कि भारत के वीर जवान अपना ऐसा पराक्रम दिखाते हैं। दुनिया भी जानने के लिए उत्सुक रहती है कि भारत के उन जवानों की ट्रेनिंग कैसी है, उनका त्याग कितना ऊंचा है।आज पूरा विश्व आपके पराक्रम की समीक्षा कर रहा है।

• मैं आज आपको प्रणाम करने आया हूं। आपको देखकर एक प्रेरणा लेकर जाऊंगा। हम दुनिया के किसी देश के सामने न झुकें है और न कभी झुकेंगे। ये बात मैं आप जैसे पराक्रमी, वीर साथियों के कारण कह पा रहा हूं।

• मैं आपको तो प्रणाम करता हूं, साथ ही आपको जन्म देने वाली वीर माताओं को भी प्रणाम करता हूं। उन माताओं पर जितना गर्व करें और सिर झुकाकर नमन करें, उतना ही कम होगा।

इसके पहले प्रधानमंत्री सैनिकों को भी संबोधित कर चुके थे।

लेह में जवानों को सम्बोधित करते प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

• आपका ये हौसला, शौर्य और मां भारती के मान-सम्मान की रक्षा के लिए आपका समर्पण अतुलनीय है। आपकी जीवटता भी जीवन में किसी से कम नहीं है। जिन कठिन परिस्थितियों में जिस ऊंचाई पर आप मां भारती की ढाल बनकर उसकी रक्षा, उसकी सेवा करते हैं, उसका मुकाबला पूरे विश्व में कोई नहीं कर सकता।

• जब देश की रक्षा आपके हाथों में है, आपके मजबूत इरादों में है, तो सिर्फ मुझे ही नहीं बल्कि पूरे देश को अटूट विश्वास है और देश निश्चिंत भी है।

• अभी जो आपने और आपके साथियों ने वीरता दिखाई है, उसने पूरी दुनिया में ये संदेश दिया है कि भारत की ताकत क्या है।

• मैं गलवान घाटी में शहीद हुए सैनिकों को आज पुनः श्रद्धांजलि देता हूं। उनके पराक्रम, उनके सिंहनाद से धरती अब भी, उनका जयकारा कर रही है। आज हर देशवासी की सिर, आपके सामने आदरपूर्वक नमन करता है। आज हर भारतीय की छाती आपकी वीरता और पराक्रम से फूली हुई है।

• आज हर देशवासी का सिर आपके यानी अपने देश के वीर सैनिकों के सामने आदरपूर्वक नतमस्तक होकर नमन कर रहा है। आज हर भारतीय की छाती आपकी वीरता और पराक्रम से फूली हुई है।

• 14 कोर की जांबाजी के किस्से हर तरफ है। दुनिया ने आपका अदम्य साहस देखा है। आपकी शौर्य गाथाएं घर-घर में गूंज रही है। भारत के दुश्मनों ने आपकी फायर भी देखी है और आपकी फ्यूरी भी।

Leave a Reply