प्रभुनाथ शुक्ला

भदोही, 16 अगस्त। मध्यप्रदेश के आगर- मालवा से गिरफ्तार भदोही के ज्ञानपुर से विधायक विजय मिश्र को पुलिस अभिरक्षा में रविवार को मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में पेश किया गया। जिसके बाद उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जिला जेल भेज दिया गया। सुनवाई की अगली तारीख 28 अगस्त पड़ी है।

इसके पूर्व गोपीगंज अस्पताल में उनकी स्वास्थ्य जाँच कराई गई। उन्हें वज्र वाहन में अदालत लाया गया। पुलिस ने विधायक के समर्थकों का काफिला प्रयागराज- भदोही सीमा में प्रवेश के दौरान रोक दिया। इस दौरान समर्थकों ने घेरा तोड़ने का प्रयास किया तो पुलिस बल प्रयोग भी किया।

पुलिस की कड़ी सुरक्षा में विधायक विजय मिश्र को रविवार को वज्र वाहन में शाम चार बजे अदालत में लाए गए। अदालत की कागजी कार्रवाई पूर्ण होने तक विधायक वज्र वाहन में ही बैठाया गया था। अदालत परिसर को सुरक्षा छावनी में तब्दील कर दिया गया था। अदालत के बाहर उनके समर्थकों की काफी भीड़ जमा थीं और समर्थक विजय मिश्र जिंदाबाद के नारे लगा रहे थे।

विधायक के खिलाफ उन्हीं के रिश्तेदार कृष्णमोहन तिवारी ने गोपीगंज कोतवाली में धमकाकर जबरिया मकान का
वसीयतनामा करवाने के लिए दबाव बनाने का मुकदमा दर्ज कराया था। इस मामले में विधायक विजय मिश्र, विधान परिषद सदस्य और पत्नी रामलली मिश्र के अलावा बेटे विष्णु मिश्र का नाम शामिल था। बेटे की जमानत हो गई है जबकि एमएलसी पत्नी प्रयागराज के लापता हैं। वैसे उनकी बेटी रीमा ने अदालत में अंतरिम जमानत के लिए याचिका दाखिल की है।

विधायक विजय मिश्र दो दिन पूर्व उज्जैन स्थित महाकाल का दर्शन- पूजन करने गए थे। वहां से दिल्ली जाते समय भदोही पुलिस कि सूचना पर मध्यप्रदेश की आगर- मालवा पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। जिसके बाद भदोही पुलिसट्रांजिट रिमांड में लेने के बाद रविवार को शाम चार बजे अदालत में पेश किया।

भदोही पुलिस विधायक विजय मिश्र को कड़ी सुरक्षा में
आगर से झाँसी पंहुची थी गेस्ट हाउस में रात्रि विश्राम के लिए ठहरी थीं। सुबह पुलिस विधायक को लेकर भदोही के लिए लेकर रवाना हुई। कोर्ट में पेशी के बाद विधायक को 14 दिन के लिये न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है।