भूमिपूजन के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने सम्बोधन से पहले शिलापट्ट का अनावरण किया। इसके बाद उन्होंने 5 रुपये का डाक टिकट जारी किया। बता दें कि यह 5 लाख डाक टिकट हैैं। जिनपर राम मंदिर का माडल अंकित है। प्ररधानमंत्री ने अपने सम्बोधन की शुरुआत सीया वर्ष राम चन्द्र की जय से की।

जानें उन्होंने क्या कुछ कहा:

  • श्रीराम के जयकारे की गूंज पूरे विश्व में सुनाई दे रही है।
  • आज इस अवसर पर सभी रामभक्तो को बधाई। ये मेरा सौभाग्य है कि मुझे आमंत्रित किया है। इस ऐतिहासिक पल का हिस्सा बनने का अवसर दिया।
  • आना बड़ा स्वाभाविक था। भारत आज भगवान भाष्कर के सानिध्य में आज एक बड़ा अवसर देख रहा है।
  • आज पूरा भारत राम मय है। हर मन दीपमय है। हर एक मन रोमांचित है। सदियों का इंतजार आज समाप्त हो रहा है।
  • कारोबार लोगों को आज यह विश्वास ही नहीं हो रहा होगा कि अपने जीते जी इस अवसर को देख पा रहें हैं।
  •  हमारे राम लला के लिए भव्य मंदिर का निर्माण होगा। राम जन्मभूमि आज मुक्त हुई है।
  •  हमारे स्वतंत्रता आन्दोलन के समय कई पीढ़ियों ने सबकुछ समर्पित कर दिया। स्वतंत्रता आन्दोलन की तरह राम मंदिर के लिए भी सदियों से कई पीढ़ियों ने संघर्ष किया है।
  • आज का दिन उसी का प्रतीक था। आंदोलन में तर्पण भी था अर्पण भी था। संकल्प भी था 130 देश वासियों की तरफ सभी आन्दोलनकारियों को नमन करता हूँ।
  • राम हमारे मन में गढ़े हुए हैं। कोई काम करना हो तो प्रेरणा के लिए हम भगवान की तरफ ही देखते हैं।
  • इसका अस्तित्व मिटाने का हर प्रयास हुआ। लेकिन राम हमारे मन में बसे हैं। श्रीराम भारत की मर्यादा हैं।
  • राम जन्मभूमि पर भव्य और दिव्य मंदिर के भूमि पूजन हुआ। राम के आदर्शों की रक्षा करने की जिम्मेदारी हनुमान की है।
  •  राम मंदिर हमारी संस्कृति का आधुनिक प्रतिनिधित्व बनेगा। हमारी राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा। आने वाली पीढ़ियों को आस्था,संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा।
  • मंदिर बनने से अयोध्या का अर्थतंत्र बदल जाएगा। पूरी दुनिया से लोग यहाँ आएंगे। बहुत कुछ बदल जाएगा यहां।
  • यह महोत्सव है नर को नारायण से जोड़ने का। आज का यह दिन राम भक्तों की संकल्प का प्रमाण है।
  • आज का दिन न्याय प्रिय भारत का प्रतीक है। श्रीराम के काम में मर्यादा का उदाहरण देश ने पेश किया है।
  • इस मंदिर के साथ इतिहास खुद को दोहरा रहा है। देशभर के सहयोग से राम मंदिर निर्माण का पुण्य कार्य प्रारंभ हो रहा है।
  • जैसे राम सेतु बनाया है वैसे देश भर से आई शिलाएँ यहा उर्जा का केन्द्र बन गई हैं।
  • भारत की सामूहिकता पूरे दुनिया के लिए शोध का विषय है। श्रीराम का चरित्र सत्य पर अडिग रहना केन्द्र बिन्दु पर घूमता है।
  •  श्रीराम ने सामाजिक समरसता को अपने शासन की आधारशिला बनाया था। राम प्रजा से एक समान प्रेम करते हैं। जीवन का कोई ऐसा पहलू नहीं जहाँ हमारे राम झलकते ना हो।
  • राम भारत की विविधता में एकता का प्रतीक है।
  • नेपाल से राम का आत्मीय संबंध माता जानकी से जुड़ा है। दुनियां के हर एक छोर पर राम रचे बसे हैं
  • राम सबके हैं, राम सबमें हैं। यह निर्मित होने वाला राम मंदिर पूरी मानवता को प्रेरणा देगा।
  •  राम मंदिर का संदेश हमारी परंपरा के लिए संदेश है। जहाँ जहाँ राम के चरण पड़े वहां राम सर्किट का निर्माण हो रहा है।
  • पूरी पृथ्वी पर राम के जैसा नीतिवान शासक नहीं हुआ है।
  • श्रीराम का आह्वान है, जो शरण में आए उसकी रक्षा करना सभी का दायित्व है।
  • राम समय स्थान और परिस्थितियों के हिसाब से सोचते और करते हैं। राम हमें समय के साथ चलना सिखाते हैं। राम आधुनिकता का प्रतीक है और राम के आदर्शों के साथ भारत बढ रहा है।
  • हमे सभी की भावनाओं का ध्यान रखना होगा। आत्मनिर्भर भारत का निर्माण करना होगा।

Leave a Reply