काशी हिन्दू विश्वविद्यालय

कोरोना के कारण देशभर में शैक्षणिक संस्थान बंद है। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय भी इस दौरान बंद है। कुछ दिनों पहले विश्वविद्यालय अनुदान आयोग(यूजीसी) ने सभी विश्वविद्यालयों को कुछ दिशानिर्देश जारी किए थे, इसी सम्बन्ध में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने कुलपति को पत्र लिखा।

  • अभी तक जिन विषयों की ऑनलाइन कक्षायें नही चल रही है उन्हें नियमित चलाने की व्यवस्था कि जाए जिससें अधिक से अधिक छात्रो का अध्ययन पूर्ण हो।अगर किसी कारणवश कक्षाएं ऑनलाइन नहीं संचालित हो पा रहीं हैं तो विचार विमर्श कर कोई अन्य मार्ग ढूंढा जाए।
  • विश्वविद्यालय के बहुत से ऐसे संकाय है जिनमे अभी तक कुछ विषयों की कक्षाये न चली है न कुछ स्टडी मैटेरियल छात्रो को मिला है, ऐसे विषयो को चिन्हित कर तत्काल छात्रों को उचित शिक्षा सामग्री उपलब्ध कराई जाए।
  • काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में अध्ययन करने वाला एक बड़ा वर्ग ग्रामीण परिवेश से आता है जहां इंटरनेट समेत संचार माध्यमो की व्यवस्था उचित स्तर की नहीं है ,इसको ध्यान में रखते हुए किसी भी स्थिति में ऑनलाईन परीक्षा न कराई जाए।
  • यूजीसी के दिशानिर्देश को ध्यान में रखते हुए सर्वप्रथम UG एवं PG के अंतिम वर्ष के छात्रों की परीक्षा स्थिति सामान्य होते ही जुलाई में कराने पर विचार हो।
  • UG प्रथम एवं द्वितीय वर्ष एवं PG प्रथम वर्ष के छात्रों को अगली कक्षा में प्रमोट किया जाए एवं उनकी परीक्षाएं या तो बाद में कराई जाए या UGC के दिशानिर्देश के अनुसार मूल्यांकन की कोई वैकल्पिक व्यवस्था हो।
  • परीक्षा के समय प्रश्नपत्रों को बनाते वक्त यह ध्यान रखा जाए कि छात्रों से प्रश्न सिर्फ उसी भाग से पूछे जाए जो उन्हें पढ़ाया गया हो। साथ ही यह विशेष ध्यान रखा जाए कि सभी कोर्स के अंतिम वर्ष के छात्रों की परीक्षा होने पर मुल्यांकन के दौरान इस महामारी काल में उपजी समस्याओं को ध्यान में रखते हुए मुल्यांकन कार्य हो।
  • ऑफलाइन परीक्षा होने की स्थिति में अंतिम वर्ष के छात्रों को उनके पोर्टल पर ई- पास जारी हो जिससे वह बिना किसी रोक टोक विश्वविद्यालय पहुँच सकें।
  • अस्वस्थ छात्र एवं छात्राओं के लिए क्वारन्टीन हॉस्टलों की व्यवस्था की अभी से सुनिश्चित की जाए।
  • परीक्षा के समय प्रतिदिन छात्रों की स्क्रीनिंग की व्यवस्था हो।
  • सभी छात्रावास, संकाय,कक्षाओं,कैंटीन,लाइब्रेरी को समय समय पर सैनिटाइज किया जाए।

Leave a Reply