लखनऊ पूरे विश्व में नोबल कोरोना वायरस की महामारी को लेकर युद्ध स्तर पर संक्रमण को फैलने से रोकने के विभिन्न प्रयास किए जा रहे हैं। ताकि कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने से रोका जाए। उसी कड़ी में भारत सरकार द्वारा सम्पूर्ण लॉक डाऊन घोषित कर रखा है जिसका तीसरा चरण 4 मई को शुरू होगा। लाकडाउन के कारण सभी स्कूलों और कालेज बन्द है। कक्षाएं आनलाइन चला रही है लेकिन वह प्रभावी नहीं हो रहा है।

इसी को ध्यान में रखते हुए सीटीसीएस फैमिली एवं अंजली फ़िल्म प्रोडक्शन के संयुक्त तत्वावधान में चित्रकला के माध्यम से लॉक डाऊन समाप्त होने के बाद पृथ्वी का स्वरूप विषय पर चित्रकारी का कार्यक्रम आयोजित किया।

इसमें कक्षा नर्सरी से लेकर कक्षा ग्यारह तक के विद्यार्थियों ने अपनी कल्पनाओं से बहुत खूबसूरती से विषय के अनुसार चित्रों के माध्यम से व्यक्त किया। कुल 52 बच्चों ने इसमें प्रतिभागिता करके अपने अनुभव और सोच के अनुसार चित्रों से पृथ्वी लॉक डाऊन के बाद कैसी दिखेगी को वर्णित किया।

सीटीसीएस फैमिली की मीडिया प्रभारी और अंजली फ़िल्म प्रोडक्शन की हेड अंजली पांडेय ने बताया कि लॉक डाऊन समाप्त होने के बाद उन सभी बच्चों को सर्टिफिकेट दिया जाएगा। यह कोई प्रतियोगिता नहीं था। इस कार्यक्रम का उद्देश्य लाकडाउन के समय बच्चे तनाव ग्रस्त न हो।

सीटीसीएस फैमिली के संस्थापक एवं अध्यक्ष मनोज कुमार ने बताया कि इस विषय पर बच्चों से चित्रकारी करके उनके विचार जानने के साथ उनको व्यस्त रखना और ज्ञान देना भी एक उद्देश्य था।

प्रतियोगिता का रिजल्ट जजों के पैनल एवं लाईक्स को मिला कर तैयार किया गया है। इसमें टॉप टेन बच्चों को शामिल किया गया है, जिनकी चित्रकारी विषयानुसार एवं सफ़ाई के साथ संयोजित रूप से बनाई गई,तान्याश्री वर्मा,मान्या वार्ष्णेय,सोनाली श्रीवास्तव,सान्वी श्रीवास्तव,रमनेश,मन्नत अशरफ़,सौम्या,जन्नत अशरफ़,पलक एवं अरनव गर्ग रहे।
टॉप 10 के अतिरिक्त अन्य बच्चों ने भी बेहतरीन प्रयास किया। जिन्हें सांत्वना पुरस्कार दिया जाएगा जिसमे मुख्य रूप से अंशिका त्यागी,कुनाल,अविरल खरे,अनुभव पांडे,जिया आर्या,तविशा ,प्रख्या सिंह,राज हंस,श्रेया बिन्दल,श्रिया वर्मा एवम उन्नति है।

दिव्या द्विवेदी ,आलोक अग्रवाल ने जज की भूमिका में रहे।

Leave a Reply