केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने देश में फसलों की कटाई व बुआई की स्थिति बताई। उन्होंने किसानों के लिए चलाई जा रही योजनाओं के बारे में बताया।
केंद्रीय मंत्री ने बताया कि, ‘प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम में 24 मार्च से अब तक करीब एक महीने में किसानों के खातों में 17,986 करोड़ रूपए जमा किए गए हैं। शुरुआत से लेकर अब तक 9.39 करोड़ किसान परिवारों को इससे फायदा मिला है और कुल मिलाकर 71,000 करोड़ रूपए की राशि दी जा चुकी है।’
साथ ही बताया कि जीडीपी में कृषि के योगदान के भी बढ़ने की उम्मीद है।

खाद्यान्न उत्पादन का ज़िक्र करते हुए कृषि मंत्री ने बताया कि वर्ष 2018-19 में जहां 285.20 मिलियन टन खाद्यान्न का उत्पादन हुआ था, वहीं 2019-20 (अनुमानित) में यह आंकड़ा 291.95 मिलियन टन हो गया है और अब 2020-21 (लक्षित) में 298.3 मिलियन टन उत्पादन की उम्मीद लगाई जा रही है। इसके साथ ही उन्होंने बागवानी फसलों का वर्ष 2018-19 में 310.74 मिलियन टन उत्पादन और 2019-20 (अनुमानित) में 313.35 मिलियन टन के रिकार्ड उत्‍पादन का ज़िक्र भी किया।

नरेंद्र तोमर के अनुसार रबी फसलों पर दीवाली पर बढ़ाये गए एमएसपीरबी से किसान काफी खुश हैं। इसमें अलग अलग फसलों पर 50 प्रतिशत से 109 प्रतिशत तक की वृद्धि की गयी है।
गेहूं और जौ-85 रुपये/क्विंटल
चने- 255 रुपये/क्विंटल
मसूर- 325 रुपये/क्विंटल
सरसों- 225 रुपये/क्‍विंटल।
रबी फसल के दलहन-तिलहन से संबंधित केंद्रों को दोगुना कर दिया गया है। पिछले वर्ष जहाँ इसकी संख्या 1485 थी वह बढ़कर 2790 हो गयी है। इसके साथ ही यह सुनिश्चित किया जाएगा कि जैसे-जैसे खरीद बढ़ेगी वैसे-वैसे और भी अधिक केंद्र खोले जाएंगे।

उन्होंने कहा की सरकार ने पीएम फसल बीमा योजना किसानों के अनुकूल बनाई  है साथ ही प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से किसानों को काफी लाभ पहुँचा है। लॉकडाउन के दौरान ही अधिकांश राशि को किसानों तक पहुँचा दिया गया है। अभी तक 9,214 करोड़ रुपये की प्रीमियम के बदले 50,289 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है।