स्रोत: नई दुनिया

राष्ट्रपति चुनाव में हार के बाद सत्ता के हस्तांतरण के मामले पर एक बार फिर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को कहा कि वे शांतिपूर्ण हस्तांतरण की गारंटी नहीं दे सकते साथ ही चुनावी जंग को सुप्रीम कोर्ट में खत्म करने की बात कही। दरअसल, ट्रंप एक सवाल का जवाब दे रहे थे जिसमें उनसे पूछा गया था कि यदि नवंबर के चुनाव में वो डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन से हार जाते हैं तो सत्ता का हस्तांतरण कितना आसान होगा। इसी सवाल के जवाब में ट्रंप ने कहा कि वे इस बात की गारंटी नहीं दे सकते हैं।

उन्होंने कहा, ‘ ठीक है, अभी हम यह देखने जा रहे हैं कि होता क्या है?’ व्हाइट हाउस में ट्रंप से पूछा गया था कि क्या वह अमेरिका में लोकतांत्रिक शासन के सबसे बुनियादी सिद्धांत के लिए प्रतिबद्ध हैं? कोविड-19 महामारी के कारण मेल-इन मतपत्रों के बढ़ते इस्तेमाल का जिक्र करते हुए ट्रंप ने कहा, ‘आप जानते हैं कि मतपत्रों के बारे में मेरा मानना है कि यह एक आपदा है।

कोरोनावायरस महामारी के कारण जाहिर तौर पर मेल-इन मतपत्रों के बढ़ते उपयोग का उल्लेख करते हुए ट्र्म्प कहा, “आप जानते हैं कि मतपत्रों के बारे में बहुत दृढ़ता से मेरी शिकायत रही है। ये मतपत्र एक आपदा हैं।” ट्रम्प अक्सर दावा करते हैं कि मेल-इन मतपत्र बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी के साधन हैं और डेमोक्रेट द्वारा चुनाव में धांधली करने के लिए इसे प्रोत्साहित किया जा रहा है। हालाकि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि डाक सेवा के माध्यम से भेजे गए मतपत्रों ने कभी अमेरिकी चुनावों में महत्वपूर्ण धोखाधड़ी की है।

Leave a Reply