प्रभुनाथ शुक्ला

भदोही, 16 जुलाई । उत्तर प्रदेश काँग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने योगी सरकार पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि सोनभद्र के उम्भा नरसंहार कांड के पीडितों को राज्य की योगी सरकार न्याय नहीँ दिला पाई। यूपी सरकार दलित, पिछड़े और आदिवासी समाज कि विरोधी है। सीतामढ़ी में कार्यकर्ताओं के साथ लल्लू ने भजन- कीर्तन भी किया।

उत्तर प्रदेश काँग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू गुरुवार को लखनऊ से अपने तीन साथियों के साथ सोनभद्र के उम्भा जा रहे थे। वहां वह उम्भा कांड की बरसी पर जमीनी विवाद में मारे गए आदिवासियों को श्रद्धांजलि देते, लेकिन भदोही पुलिस ने उन्हें गोपीगंज में हिरासत में ले लिया। पुलिस की इस कार्रवाई पर लल्लू भड़क गए और राज्य की योगी सरकार पर जम कर निशाना साधा।

काँग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने आरोप लगाते हुए कहा कि सोनभद्र के उम्भा में जमीनी विवाद में मारे गए आदिवासियों को आज तक न्याय नहीँ मिल सका है। उन्होंने योगी सरकार पर आरोप लगाया कि 2019 में जब प्रियंका गाँधी उम्भा में मारे गए आदिवासियों परिवारों की मदद को सोनभद्र आयीं, जिसके बाद सरकार की नींद टूटी। लेकिन घटना के साल भर बाद भी पीडित परिवारों को कोई सहायता नहीँ मिली। उन्हें ज़मीन और सरकारी आवास नहीँ उपलब्ध कराए गए।

राज्य की योगी सरकार जमीनी विवाद में मारे गए आदिवासी परिवारों को आज तक न्याय और ज़रूरी सुविधा नहीँ दिला सकी है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार ने उम्भा नरसंहार में मारे गए पीडितों के परिवार के लिए ज़मीन, मकान और और आर्थिक मदद दिलाने का वादा किया था, लेकिन कुछ नहीँ कर पाई है। सिर्फ़ आदिवासी और दलितों, पिछड़ी जातियों का दमन कर रहीं है।

योगी सरकार पर हमला बोलते हुए लल्लू ने कहा कि सरकार लोकतंत्र को नहीँ मानती। वह राजतंत्र में विश्वास रखती है। वह लोकतंत्र की हत्या कर रहीं है। राज्य में विपक्ष के लोगों का राजनैतिक दमन किया जा रहा है। विपक्ष की आवाज़ दबाई जा रहीं है। असंवैधानिक तरीके से विपक्ष के खिलाफ़ हाथ धोकर पड़ी है। मुख्यमंत्री योगी का कोई कार्य नहीँ रुक रहा है, लेकिन विपक्ष का एक नेता अपने तीन साथियों के साथ सोनभद्र आदिवासियों को श्रद्धांजलि देने जा रहा हो तो उसे हिरासत में ले लिया जाता है। यह लोकतंत्र में राजतंत्र नहीँ है तो और क्या है।

भदोही पुलिस की तरफ़ से हिरासत में लिए जाने पर उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में अपराध का बोलबाला है। जितनी पुलिस मुझे हिरासत में लेने के लिए लगाई गई है अगर उतनी अपराधियों की नकेल कसने के लिए लगाई जाती तो राज्य का भला होता। उन्होंने कहा कि काँग्रेस कार्यकर्ता कभी डरा नहीँ है। सरकार की तरफ़ से डराने की कोशिश जारी है। काँग्रेस दलितों, पिछडे और आदिवासियों के विकास कि हिमायती रहीं है। उसका यह संघर्ष जारी रहेगा। काँग्रेस कार्यकर्ताओं को इसके लिए चाहे जो भी कुर्बानी देनी पड़े वह तैयार है।

Leave a Reply