विशाल यादव

भारत की मशहूर भारोत्तोलक खिलाड़ी संजीता चानू को 2018 से रुका हुआ प्रतिष्ठित अर्जुन पुरस्कार मिलेगा। चानू को यह अर्जुन पुरस्कार 2018 के दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश के अनुसार मिलेगा। चानू अपने अर्जुन पुरस्कार के लिए 2017 में अपने नाम की अनदेखी को लेकर दिल्ली उच्च न्यायालय में रिट याचिका दायर की थी। जब ये मामला उच्च न्यायालय में चल रहा था, कि चानू मई 2018 में वह प्रतिबंधित पदार्थ के लिए पॉजिटिव हो गई थी। उसी साल अगस्त में उच्च न्यायालय ने अपने आदेश में समिति को पुरस्कार के लिए चानू के नाम पर विचार करने का निर्देश दिया था। उच्च न्यायालय ने आगे समिति को आदेश दिया कि चानू पर जब तक डोप आरोपों के खिलाफ फैसला ना जाए तब तक समिति अपने फैसले को सील बंद लिफाफे में रखें.जिसे चानू के डोपिंग के आरोपों से मुक्त होने की स्थिति में ही खोला जाना था। पिछले महीने ही अंतरराष्ट्रीय भारोत्तोलन महासंघ (आईडब्ल्यूएफ) ने चानू के खिलाफ डोपिंग के आरोप हटा दिया था.आईडब्ल्यूएफ ने विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी (वाडा) की सिफारिश के आधार पर चानू को आरोप मुक्त किया था। इसके बाद राष्ट्रीय महासंघ ने खेल मंत्रालय को पत्र लिखकर उच्च न्यायालय के सीलबंद आदेश को खोलने को कहा था। खेल मंत्रालय के सूत्र ने कहा है कि “चानू को अंतरराष्ट्रीय महासंघ ने डोपिंग के सभी आरोपों से मुक्त कर दिया है इसलिए हमें दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश का पालन करना होगा और अर्जुन पुरस्कार के लिए उसके नाम पर विचार करना होगा” चानू ने 2014 और 2018 में लगातार दो राष्ट्रमंडल खेलों में क्रमश: 48 और 53 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीती थी।

Leave a Reply